Sunday, November 5, 2017

पित्र दोष के लक्षण कारण और उपाय

पंडित योगेशपारीक
पितृ दोष जन्मपत्रिका में जब सूर्य और राहु की नवम भाव में युति हो तो पित्र दोष बनता है वैसे तो पित्र दोष बहुत प्रकार के होते हैं लेकिन मुख्यतः जब सूर्य और राहु की युति किस भाव में हो रही है उससे संबंधित परिवार के संबंधी का पितृदोष माना जाता है जैसे पंचम भाव पुत्र का है और राहु और सूर्य का योग पंचम भाव में बन रहा है तो यह माना जाएगा कि आप के पुत्र  की मृत्यु के पश्चात उसका दोष है इसी प्रकार चतुर्थ भाव में है तो मां का द्वितीय भाव में तो भाई का और इसी प्रकार सब लोगों का ज्ञात किया जाता है
ज्यादा जानकारी और अपनी जन्म कुंडली दिखाने के लिए संपर्क करें योगेश पारीक 9433571794
गुवाहाटी आसाम कामाख्या मंदिर

जब परिवार के किसी पूर्वज की मृत्यु के पश्चात उसका भली प्रकार से अंतिम संस्कार संपन्न ना किया जाए, या जीवित अवस्था में उनकी कोई इच्छा अधूरी रह गई हो तो उनकी आत्मा अपने घर और आगामी पीढ़ी के लोगों के बीच ही भटकती रहती है। मृत पूर्वजों की अतृप्त आत्मा ही परिवार के लोगों को कष्ट देकर अपनी इच्छा पूरी करने के लिए दबाव डालती है और यह कष्ट पितृदोष के रूप में जातक की कुंडली में झलकता है।

पित्र दोष के लक्षण जब कोई जातक पितृदोष से प्रभावित होता है तो उसके घर में सुख शांति नहीं रहती और पति पत्नी के बीच झगड़ा रहना सास-ससुर से झगड़ा रहना और इससे प्रभावित जातक कि घर में कोई अहमियत नहीं रहती वह सही होने पर भी हमेशा गलत माना जाएगा इस प्रकार के लक्षण पित्र दोष के होते हैं जिस कारण प्रभावित जातक जीवन में अपने पथ पर चलने में कठिनाई होती है

पितृ दोष का उपाय किसी योग्य ब्राह्मण को घर में बुलाकर के गायत्री सवा लाख जप करवाएं और भागवत मूल पाठ और विष्णु सहस्त्रनाम के पाठ करवाई यह एक सर्वोत्तम तरीका है जिससे थोड़े ही समय में पितृ दोष से निवारण  हो जाता है

ज्यादा जानकारी और अपनी जन्म कुंडली दिखाने के लिए संपर्क करें योगेश पारीक 9433571794
गुवाहाटी आसाम कामाख्या मंदिर

No comments:

Post a Comment

पित्र दोष के लक्षण कारण और उपाय

पंडित योगेशपारीक पितृ दोष जन्मपत्रिका में जब सूर्य और राहु की नवम भाव में युति हो तो पित्र दोष बनता है वैसे तो पित्र दोष बहुत प्रकार के हो...